डीएवी यूनिवर्सिटी में मनाया गया संविधान दिवस  जालंधर, 25 नवंबर 

      जालंधर, 25 नवंबर डीएवी यूनिवर्सिटी ने भारत द्वारा संविधान को अपनाने के उपलक्ष्य में 73वां संविधान दिवस मनाया। यह समारोह स्कूल ऑफ लॉ एंड लीगल स्टडीज, डीएवी यूनिवर्सिटी के तत्वावधान में आयोजित किया गया था। भारत ने संविधान 26 नवंबर, 1949 को अपनाया था। मुख्य अतिथि श्री जसप्रीत सिंह, उपायुक्त, जालंधर ने छात्रों से कहा कि संविधान दिवस समारोह उन दिग्गजों को श्रद्धांजलि है जिन्होंने भारत को अपना संविधान देने के लिए अथक परिश्रम किया। उन्होंने बताया कि भारत का संविधान औपचारिक रूप से 26 जनवरी, 1950 को लागू हुआ था। इस दिन को भारत के गणतंत्र दिवस के रूप में मनाया जाता है।    उन्होंने छात्रों को यह भी बताया कि भारतीय संविधान दुनिया का सबसे लंबा लिखित संविधान है। स्कूल ऑफ लॉ एंड लीगल स्टडीज की डीन डॉ. कमलजीत कौर सिद्धू ने अपने स्वागत भाषण में कहा कि संविधान ने नागरिकों को दायित्वों और कर्तव्यों के साथ अधिकार दिए हैं। उन्होंने कहा कि नागरिकों को अपने कर्तव्यों और उत्तरदायित्वों का निर्वाह करना चाहिए जो स्वतः ही उन्हें अधिकार प्रदान करते हैं। वाईस-चांसलर डॉ. मनोज कुमार ने कहा कि भारतीय संविधान लोकतंत्र के अस्तित्व और राष्ट्र की अखंडता के लिए महत्वपूर्ण है। विश्वविद्यालय के एग्जीक्यूटिव डायरेक्टर श्री राजन गुप्ता ने सलाह दी कि समाज की भलाई के लिए संविधान के प्रावधानों के बारे में लोगों को जागरूक किया जाना चाहिए। विश्वविद्यालय के रजिस्ट्रार डॉ के एन कौल ने धन्यवाद प्रस्ताव रखा।

पी.सी.एम.एस.डी. कॉलेज फॉर विमेन, जालंधर के पीजी कंप्यूटर साइंस एंड आईटी डिपार्टमेंट द्वारा डीएसटी-एसईआरबी द्वारा प्रायोजित दो दिवसीय इंटरनेशनल कांफ्रेंस का आयोजन।

      पी.सी.एम.एस.डी. कॉलेज फॉर विमेन, जालंधर के कंप्यूटर साइंस और आईटी के पीजी डिपार्टमेंट ने "रिसेंट एडवांसेज इन साइंस, इंजीनियरिंग...

Uncontrolled canters entered shops in Phagwara

फगवाड़ा में अनियंत्रित कैंटर दुकानों में घुसा:बाल-बाल बचे लोग, 4 गाड़ियों को नुकसान; ड्राइवर को नींद आने से हुआ हादसा

जालंधर-लुधियाना हाईवे पर फगवाड़ा के पास चाचोकी में एक बड़ा हादसा होते-होते टल गया। एक बेकाबू कैंटर हाईवे से छिटक...

Recommended